Hisaab Lyrics – Raj Barman | Paras Arora

Hisaab Lyrics by Raj Barman is a brand new Hindi song sung by Raj Barman with music of this song is given by Siddharth Kasyap and Hisaab song lyrics are penned down by Kumaar while starring Paras Arora, Kashika Kapoor. The music video is released on Zee Music Company youtube channel.

Song Details

Song: Hisaab
Singer: Raj Barman
Lyrics: Kumaar
Music: Siddharth Kasyap
Starring: Paras Arora, Kashika Kapoor
Label: Zee Music Company

Hisaab Lyrics – Raj Barman | Paras Arora

Kisi Ka Dil Dukhaoge
Toh Dard Tum Bhi Paoge
Kisi Ka Dil Dukhaoge
Toh Dard Tum Bhi Paoge

Kisiko Tum Rulaoge
Toh Aansu Tum Bhi Paoge
Naa Sifarish Naa Guzarish
Naa Hi Lihaaz Karta Hai

Ishq Mein Khuda Barabar
Ka Hisaab Karta Hai
Ishq Mein Khuda Barabar
Ka Hisaab Karta Hai

Hmm Apna Banake Begaana Kar Dena
Beech Safar Mein Anjaana Kar Dena
Ho Apna Banake Begaana Kar Dena
Beech Safar Mein Anjaana Kar Dena

Jee Bhi Na Paaye Kisi Ke Bina
Kyun Itna Jyaada Deewana Kar Dena
Kahan Ki Ye Sharafat
Jaane Kaisi Ye Aadat Hai

Kahan Ki Ye Sharafat
Jaane Kaisi Ye Aadat Hai
Kisiko Kar Dena Barbaad
Kisne Di Ye Ijazat Hai

Chahe Jitne Karlo Parde
Ye Banaqaab Karta Hai

Ishq Mein Khuda Barabar
Ka Hisaab Karta Hai
Ishq Mein Khuda Barabar
Ka Hisaab Karta Hai

Kisi Ka Dil Dukhaoge
Toh Dard Tum Bhi Paoge
Kisiko Tum Rulaoge
Toh Aansu Tum Bhi Paoge

Naa Sifarish Naa Guzarish
Naa Hi Lihaaz Karta Hai

Ishq Mein Khuda Barabar
Ka Hisaab Karta Hai
Ishq Mein Khuda Barabar
Ka Hisaab Karta Hai

Ishq Mein Khuda Barabar
Ka Hisaab Karta Hai
Ishq Mein Khuda Barabar
Ka Hisaab Karta Hai

Hisaab Lyrics in Hindi – Raj Barman

किसी का दिल दुखाओगे तो दर्द तुम भी पाओगे
किसी का दिल दुखाओगे तो दर्द तुम भी पाओगे
किसी को तुम रुलाओगे तो आसूं तुम भी पाओगे

ना सिफारिश ना गुजारिश ना ही लिहाज करता है
इश्क़ में खुदा बराबर का हिसाब करता है
इश्क़ में खुदा बराबर का हिसाब करता है

अपना बना के बेगाना कर देना
बीच सफर में अनजाना कर देना
अपना बना के बेगाना कर देना
बीच सफर में अनजाना कर देना

जी भी ना पाए किसी के बिना क्यूँ इतना ज्यादा दीवाना करते हो
कहाँ की ये सराफत है जान कैसी ये आदत है
कहाँ की ये सराफत है जान कैसी ये आदत है
किसी को कर देना बर्बाद किस ने दी ये इजाजत है

चाहे जितने कर लो पर्दे ये बेनकाब करता है
इश्क़ में खुदा बराबर का हिसाब करता है
इश्क़ में खुदा बराबर का हिसाब करता है

किसी का दिल दुखाओगे तो दर्द तुम भी पाओगे
ना सिफारिश ना गुजारिश ना ही लिहाज करता है

इश्क़ में खुदा बराबर का हिसाब करता है
इश्क़ में खुदा बराबर का हिसाब करता है
इश्क़ में खुदा बराबर का हिसाब करता है
इश्क़ में खुदा बराबर का हिसाब करता है